Skip to content

Category: Uncategorized

उड़ान

पृष्ठभूमि : हम सपने देखते हैं ज़िन्दगी में बहुत बड़ा बनने का,बहुत ऊँचा जाने का और बादलों के पार जाने का। जब हम अपने सपनों को पा लेते हैं, अपनी… Read more उड़ान

दोष…!

अन्नू ज़रा चाय ला कर दो मुझे, अखबार पढ़ते हुए विनय ने कहा। अन्नू जो की विनय की पत्नी है, चाय की कप को पकड़ाते हुए पूछती है, क्या है आज की खबर ? है, रोज की वही खबर, आज भी किसी लड़की के साथ उसके ही मित्र ने उसकी निजी तस्वीर को दिखा कर धमकाते हुए जबरदस्ती किया। हाय राम ! दोस्त भी आज कल ऐसे होते हैं, अन्नू दुःख भरे स्वर में कहती है। तभी विनय बोलता है, ऐसी लड़कियों के साथ यही होता है। यह सुनकर अन्नू… Read more दोष…!

आहुति

विभा आज 18 बरस की हो गयी है और आज उसकी शादी है। उन शादी के रस्मों के बिच विभा घबरायी हुई सी कभी हँसती कभी मुस्कुराती तो कभी सहेलियों और बहनों के संग नाच लेती। पर विभा के उस मुस्कान के पीछे मरते हुए उसके सपनों को किसी ने नहीं देखा ना उसके ऊपर हँस रहे उसके स्वाभिमान को दम तोड़ते हुए किसी ने देखा। आज तो विभा जैसे खुद के मरने का जश्न मना रही थी। नाच रही थी अपने अंतरात्मा के मौत के मातम में।वहीँ दूर खड़ी… Read more आहुति

वो कौन थी?

आखिर कौन थी वो,अपने दफ्तर की मेज़ पे बैठा सोचता रहा तभी उसके सहकर्मी ने उसे चाय की प्याली पकड़ाते हुए पूछा, क्या हुआ अरुण आज बड़े गुमसुम से हो। अरुण बोला क्या बताऊ कैसे शुरू करुँ। सहकर्मी ने फिर कहा, जहा से मन को कुछ याद आये।अरुण बोला, बात कुछ ऐसी है की परसो सुबह मैंने एक औरत को देखा, होगी यूँ ही कुछ 30-35 बरस की। उसके सहकर्मी ने कहा फिर क्या हुआ। बेचारी अपने एक दूध मुँहे बच्चे को गोद में लिए रस्ते में भीगते हुए जा… Read more वो कौन थी?