Skip to content

Category: Uncategorized

ओ बेखबर(O Oblivious)

नींद तो बहोत आती होगी तुम्हेंसुकून भी बहोत होगीआखिर चैन से सोता वही हैजिसे किसी की खबर क्यूँ होगीअशांत मन के लोग सोते कहाँ हैंके बन जाते हैं यूँहीं मन… Read more ओ बेखबर(O Oblivious)

Writer (A fighter)

Who is a writer? What does a writer feel? Why does a writer write? Does a writer need courage to write? A. Rajveer 20-Aug-2020 This story is about feelings of a writer, I am sharing some experiences which I got while talking with different writers, nothing was different, I too feel these things. Actually, when a writer asks any question to society by penning down his/her thoughts in a story, some people appreciate it but some of them start talking bad about the writer, like, the writer is going against… Read more Writer (A fighter)

दुल्हन

मेरी कलाई और तुम्हारी लाल चूड़ियांमिलते हैं नसीब से और बनती हैं जोड़ियांनए हैं रिश्ते सारे, नयी है ज़िंदगानीमेरे हैं जो अपने, उनसे हुई बेगानीरच गयी हाथों में मेहंदी की लालीदेखो ना सज गए कानों में बालीचुनर ये लाल लाहौरी मेरे तन पे सजी हैमेरी झांझर की झंकार तेरे आँगन चली हैलग गयी माथे पर मेरे, तेरी बिंदियाऔर धीरे धीरे तुम ले गए देखो ना मेरी निंदियासज गया है मेरे मांग में सिन्दूर ये तेराबन गयी दुल्हन तेरी छूट गया है बाबुल मोराआँखों में है दरिया भर पानीयादों में रह… Read more दुल्हन

Love (इश्क़)

I see your picture in every particle Your feeling makes me bloom everywhere Isn’t it affection? Isn’t it love? Aren’t you craziness O cruel heart you only tell Poet: Rahul Kumar

इश्क़ (Love)

तेरी तस्वीर हर ज़र्रे में नज़र आती हैतेरा एहसास हर जगह फ़िज़ा कराती हैये मोहब्बत नहीं तो क्या हैये इश्क़ नहीं तो क्या हैतू फितूर नहीं तो क्या हैऐ ज़ालिमा तू ही बता लेखक: राहुल कुमार

मुखौटा (Mask)

मुस्कान नकली हैपहचान नकली हैप्यार नकली हैसाथ फरेब हैमकसद यहाँ सिखाता है सब कुछमकसद यहाँ दिखाता है सब कुछमतलब की दुनियाँ हैमतलबी ज़माना है लेखक: राहुल कुमार